Business Country Politics

दस दिन बीत जाने पर भी बाजरे की खरीद का नही हुआ भुगतान

दस दिन बीत जाने पर भी बाजरे की खरीद का नही हुआ भुगतान

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

सोहना। स्थानीय अनाज मंडी में बाजरे की सरकारी खरीद शुरू होने के बाद दस दिन बीत जाने के बाद भी किसानों को भुगतान नहीं हुआ है। किसानां को दो चरणों में फसल का भुगतान किया जाएगा।
सोहना की अनाज मंडी में बाजरे की सरकारी खरीद को एक अक्तूबर से आरंभ किया गया था। अब तक 58 सौ 32 क्विंटल बाजरा किसानों द्वारा सरकारी खाते में बेचा गया है। लेकिन किसानों को सरकारी खरीद हुए दस दिन बीत जाने के बाद भी उनकी फसल का भुगतान नहीं हुआ है। जिससे किसान मायूस हो रहे है। क्योकि किसानों को फसल की बिजाई से लेकर कटाई तक की गई धनराशि का भुगतान करना है। जिसके लिए फसल बेचने के बाद उन्हे नकदी की जरूरत हेती है।
क्या कहते है किसान 
किसान रामअवतार ने बताया कि उन्होने करीब एक सौ क्िंवटल बाजरा सरकारी खाते में बेचा है। लेकिन उसकी फसल का आज तक भुगतान नहीं हुआ है। जबकि किसान की फसल का भुगतान तुरन्त प्रभाव से कर देने की बात कही गई थी। किसान धर्मबीर ने बताया कि मंडी में बाजरा बिक्री के लिए लाने में उसने किराए पर ट्राली लेकर आया था। ट्राली मालिक को उसका किराया तक नहीं दिया गया है। क्योकि उसे उसकी फसल का भुगतान नहीं मिला हे। वह रोज अपने बैंक खाते की जांच कर रहा है।
क्या कहते है अधिकारी 
सोहना की अनाज मंडी में वेयर हाउस ओैर हेफेड की दो एजेसियां बाजरे की सरकारी खरीद रही है। हेफेड के फिल्ड अधिकारी रिसी कुमार ने बताया कि किसानों की वैरिफिकेशन की जा रही है। वैरिफिकेशन पूरी होने पर ही किसान के बेंक खाते में भुगतान कर दिया जाएगा। उन्होने बताया कि उनकी एजेंसी किसानों को अलग.कीमतों में भुगतान करेगी। जो रोजाना के अलग.अलग रेट से बाजरा की खरीद गई है। हेफेड ने अब तक किसान के बाजरे का अधिकत्म 1650 रुपये में खरीदा है। जो 1950 सरकारी खरीद की शेष राशि किसाने का सरकार द्वारा दी जाएगी।